Snow-Falling-Effect

Tuesday, August 08, 2017

Autumn : Haiku

                                                    


                                                                           season's master stroke                                                                                                                                                lands lit in gold amber hues
                                                                             swan song of  verdant

                                                                             
                                                                          

Monday, August 07, 2017

क्या करें


                                                 मुस्कुराते हम हैं हर तस्वीर में
                                                 झिलमिलाती इस नज़र को क्या कहें?
                                                 इक मुक़्क़मल ख़्वाब होती ज़िंदगी
                                                 दिल तेरी यादों का घर, अब क्या करें।

                                                खामोश है, सुनसान है मेरा मकां
                                                तेरी बातों का असर, हम क्या कहें?
                                                उलझनें कमबख्त दिल को कम ना थीं
                                                है तेरी रंजिश भी अब सर, क्या करें...
                                             

                                                सुर्ख़ अल्हड़पन, सिंदूरी शोखियाँ
                                                आज गुमसुम गुलमोहर वो, क्या कहें...
                                                बातों से महका, लदा किस्सों से था,
                                                उस शज़र पे आज पतझर, क्या करें!


                                               पढ़ते क़सीदे थे कभी हर बात पर
                                               आज शिक़वे बस मुसलसल क्या कहें!
                                               बारहा शब के अंधेरे कम ना थे
                                               मौत जैसी इस सहर का क्या करें?


झिलमिलाती -  shimmering with tears                          शज़र- a tree in bloom
मेरा मकां - my soul.                                                          मुसलसल- connected, chained, always
बारहा - often.                                                                   सहर - morning, dawn

You May Also Like

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...